एक ज़िंदगी में अनेक ज़िंदगियाँ





                                       








रात 
जब अंतिम सफर पूर्ण करती है
नई ज़िन्दगी
मुस्कुराती मिलती है ,
नये दिन के साथ 
एक नयी ज़िन्दगी।
एक ज़िन्दगी में
कितनी 'ज़िंदगियाँ '
'जी ' लेते हैं हम ?



© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’