Wednesday, June 8, 2016

एक ज़िंदगी में अनेक ज़िंदगियाँ





                                       








रात 
जब अंतिम सफर पूर्ण करती है
नई ज़िन्दगी
मुस्कुराती मिलती है ,
नये दिन के साथ 
एक नयी ज़िन्दगी।
एक ज़िन्दगी में
कितनी 'ज़िंदगियाँ '
'जी ' लेते हैं हम ?



© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

No comments:

अनंत चतुर्दशी-संस्मरण

का मथS तार... क्षीर समुद्र...का खोजS तार...अनंत भगवान... मिललें... ना। यूँ तो हमारे घर में पूजा पाठ ज़्यादा नहीं हुआ करता था। 'बाबा-अ...