Skip to main content

नम हुई आंखें

अभी कुछ दिन पहले ही एक अखबार के छोटे से कॉलम में पढ़ी की बिहार के किशनगंज की रहने वाली एक महिला को उसके पति ने ही दिल्ली में बेच दिया । वो तो उस महिला की बहादुरी थी और एक संस्था की दिलेरी जिससे वो महिला अपनी अस्मत बचाने में कामयाब रही। हालाँकि अन्य अखबारों या खबरिया चैनलों में इसकी चर्चा मुझे दिखी नहीं। शायद उनके लिए ये बड़ी ख़बर नहीं थी क्योंकि अब तो ऐसी घटनाएं आम हो गई है। मेरा ध्यान इस कॉलम की ओर इसलिए गया क्योंकि इस घटना से कुछ दिन पहले ही मुझे इस विषय पर काम करने का मौका मिला था। उस दौरान मेरी मुलाक़ात इसी संस्था के संचालक से हुई थी जो लंबे समय से लड़कियों और महिलाओं को खरीद फरोख्त से बचाने और उन्हें सशक्त करने के प्रयास में जुटे हुए हैं। उन्होंने बताया की कैसे लड़कियों की खरीद फरोख्त में एक पुरा गिरोह काम करता है। ऐसे गिरोह के चंगुल में ख़ासतौर पर वैसे लोग या वैसे परिवार फंसते हैं, जो बेहद गरीब होते हैं , जिनके घर में बेटियाँ ज़्यादा होती हैं। दिल्ली, मुंबई, हरियाणा,जयपुर और आगरा में इनके ग्राहक ज़्यादा होते हैं।
सवाल उठता है लडकियां लायी कहाँ से जाती हैं? एक अध्ययन से ये बात सामने आई है की पड़ोसी देशों से करीब १० प्रतिशत लडकियां यहाँ लायी जाती हैं, वही देश के अन्य राज्यों से लायी जाने वाली लड़कियों की संख्या करीब ८९ फीसदी है। बांग्लादेश से लायी गई लड़कियों को आमतौर पर कोल्कता के चकलाघर में पनाह मिलता है। वहां से लड़किया भारत के अन्य शहरों में बेचीं जाती हैं। ठीक इसी तरह नेपाल से भी बड़ी संख्या में लड़कियों को लाया जाता है। किसी भी लड़की का दाम उसकी उम्र और सुन्दरता पर निर्भर करता है, और वो चार सौ से लेकर सत्तर हज़ार तक हो सकता है। इन्हें आमतौर पर घरेलू काम, उद्योग धंधे , चकलाघर या फ़िर शादी के लिए बेचा जाता है। जो लडकियां चकलाघर में बेचीं जाती हैं उन्हें हर दिन एक नए जुल्मोसितम का सामना करना पड़ता है। भूखा रखना, मारना पीटना , जलाना ये तो रोज़ का काम है, कभी कभी तो उन्हें जान से भी हाथ धोना पड़ता है।
सच है ये दुनिया जितनी खूबसूरत नज़र आती है उतनी है नहीं । मुझे ऐसी पीड़ित और शोषित बच्चियों से मिलने का मौका भी मिला। उनकी आँखों में सूनापन और उदासी थी। उनमे से कई तो अपने घर का पता भी नहीं जानती थी, फिलहाल उनका आशियाना बना हुआ है एक स्वयंसेवी संस्था का बाल आश्रम । मेरी बातें अभी भी अधूरी है.................

Comments

मीत said…
dont worry priya...
tumhari bat ek din zarur poori hogi...
or wo subah bhi ayegi...
jiska tumhare or hamre dil ko intzaar hai..
wo subah ayegi... zarur ayegi..

sach ka ek or panna khola...
मीत said…
This comment has been removed by the author.
priyambara mujhe nahee lagtaa ki maine kuch aisa kaha hai. jisme aapne meri becharee chotee si abhivyakti ko hee doshi thahraa diyaa. par agr maine aisa kuch kaha jisse aapko meri abhivyakti daridra lagee. to main aapki is dhanee aalochna ko salaam kartaa hoon ab aage se aisaa nahee hogaa.
waise main aapki is rachna par apna comment phir kabhee aur doongaa
yawnika said…
dekhiye is abhadra kaam ke pichhe nar or nari dono saman rup se dosi hain. is kharid farokhth mahilaon ki kafi aham bhumika hoti hain. or nari hi khud ko is janjal se mukt kara sakti hain.
media to ab chatpati chijon ko parosh rahin hain. media ko isse kya lena dena. aapne achchha likha likhte rahiye 'AAINA' naam ke anusar kaam bhi hain. yahi samaj hain dikhate rahiye.

thank u

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी नहीं बल्कि मनुष्य एक सामूहिक प्राणी है। पहले जाति विशेष का समूह, फिर धर्म विशेष, फिर गाँव विशेष, शहर विशेष, क्षेत्र विशेष, राज्य विशेष, भाषा विशेष, देश विशेष, विचारधारा विशेष- सुविधानुसार हम सब अपने-अपने समूह में शामिल रहते हैं। इतना ही नहीं ये सामूहिक विभेद का काम विद्यालय और महाविद्यालय स्तर पर भी चलता रहता है। बंटवारे का बीज तो हम सब बचपन से ही अपने मन में बोये रहते हैं। समय-समय पर कोई महापुरुष या स्त्री इसमें खाद पानी दे जाते हैं, और ये फलने फूलने लगते हैं। फेसबुक और व्हाट्सएप्प जैसे सोशल नेटवर्किंग प्लेटफार्म भी समूह बनाने की सहूलियतें दे रहा है। यहाँ भी लोग सामूहिक बँटवारे को बड़े प्यार से अपना रहे। अगर आपको सामूहिक बँटवारा पसंद नहीं तो भी लोग आपको बाँट कर ही रहेंगे। कोई आपको जातिगत समूह में शामिल करेगा तो कोई शहर, राज्य, पेशेगत समूह में शामिल करेगा, लेकिन बँटवारा ज़रूरी है।
बँटवारे के बाद शुरू होता है सामूहिक बड़ाई और बढ़ावा देने का सिलसिला। तू मेरी पीठ थपथपा मैं तेरी थपथपाऊँ, और अगर किसी और समूह वाले ने किसी दूसरे समूह के लोगों पर टिप्पणी कर दी तो 'च…

बुरा स्वप्न

आँखों की पुतली में हरकत 
एक आस  शायद अभी खुलेंगी आँखें  और हम पुनः जुट जाएंगे इशारों को  समझने में  लेकिन  पलकें मूँद गयी  स्थिर हो गयी पुतलियाँ  धडकनें थम गयी  चेहरे पर असीम शान्ति  हथेलियों की गर्माहट घटने लगी  क्षण भर में  बर्फ हो गयी हथेलियाँ  हर तरफ सिसकियाँ  लेकिन मैं गुम थी  विचारों के  उथल पुथल में - मृत्यु इतनी शीतल है  फिर  गर्म - खारे पानी का ये सैलाब क्यों  जब मृत्यु इतनी शांत है  फिर क्यों जूझना  भावनाओं के तूफ़ान से  मृत्यु तो सबसे बड़ा सच है  फिर झूठी ज़िन्दगी से मोह क्यों ??    



© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

महिला दिवस पर कार्यक्रमों, संदेशों, कविताओं की झड़ी लग गई है। सारे लोग अपने अपने तरीकों से महिलाओं को सशक्त करने/होने की बात कर रहे। महिला दिवस पर स्री सशक्तिकरण का जितना भी राग अलापें लेकिन ये सच है कि एक सशक्त महिला सबकी आँखों का काँटा होती है। जब वो अपने बलबूते आगे बढ़ती है, उसे कदम दर कदम अपने चरित्र को लेकर अग्नि परीक्षा देनी होती है। अगर वो सिंगल/अनब्याही है, तो हर रोज़ उसे लोगों की स्कैनर दृष्टि से गुज़रना पड़ता है। अक्सर पुरुषों की दृष्टि उसमें अपने ऑप्शन्स तलाशती रहती हैं। उम्र, जाति, खानदान यहां तक कि उनके सेक्सुअल अभिरुचि पर भी सवाल किये जाते हैं।  एकबार एक बहुत ही वरिष्ठ व्यक्ति, जो दिल्ली  में वरिष्ठ पत्रकार है, ने पूछा था, “तुमने शादी नहीं की? अकेली रहती हो या लिव इन में ? तुम्हारा पार्टनर कौन है? “ मतलब ये कि “एक महिला अकेले रहती है, कमाती है, खाती है “  ये बात किसी से हजम नहीं होती। तीस साल की होने के साथ ही शादी का ठप्पा लगना ज़रूरी हो जाता है, अगर शादी नहीं की और हँसते हुए पूरे उत्साह के साथ  जीवन गुज़ार रही तो लोगों को वैसी महिलाएं संदिग्ध नज़र आने लगती हैं। लोग अक्सर उनकी …