अनंत चतुर्दशी-संस्मरण

का मथS तार... क्षीर समुद्र...का खोजS तार...अनंत भगवान... मिललें... ना।
यूँ तो हमारे घर में पूजा पाठ ज़्यादा नहीं हुआ करता था। 'बाबा-अम्मा' दयालबाग से जुड़े थे...लेकिन कुछ पूजा हमारे घर में ज़रूर होती, उनमें से एक अनंत चतुर्दशी की पूजा भी थी। सुबह-सुबह बालकनी धो दी जाती। वहीँ पूजा का सारा इंतज़ाम होता। हमें जो इंतज़ार रहता वो था 'चनामृत' का और साथ ही 'क्षीर समुद्र' को मथने का। 'अनंत पूजा' और 'कलम दवात' की पूजा का चनामृत बाकि पूजा के चनामृतों की तुलना में थोड़ा ज़्यादा स्वादिष्ट होता है 😉। (बचपन से जीभचटोर वाली प्रकृति है)

खीरा से दूध और पानी के 'क्षीर समुद्र' को मथा जाता, जिसमें से सोने के अनन्त भगवान निकलते, जो पहले ही रख दिया जाता। मोहल्ले भर से लोग हमारे घर पर अनंत पूजा के लिए आते। पूजा के बाद रंग बिरंगा अनन्त हमारे बाजुओं में बांधा जाता। वो अनंत मुझे बहुत सुन्दर लगता था। पूजा के बाद सिवई, दोस्ती पराठा और अच्छी सी सब्जी का भोग लगता, हालांकि पण्डी जी नमक नहीं खाते, लेकिन घर के सदस्यों को नमक खाने पर कोई पाबंदी नहीं थी।

अम्मा हमें बताती थीं कि बाबा का जन्मदिन अनन्त के ही दिन हुआ, ये उसी का सेलिब्रेशन है। बाबा के गुजरने के बाद भी ये सिलसिला कुछ समय तक जारी रहा। आरा छोड़े तेरह साल हो गए। अब आरा जाना भी होता है तो अतिथि की तरह...और अनंत पूजा अंतिम बार घर में कब हुआ था याद नहीं ।

© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’