आँखें (चंद हाइकु )











बेरंग जहां
रोशन कर गया
आँखों का दान
-----------
जागती आँखें
चाँद पाने की ज़िद
उंघते ख्वाब
------------
छलके शब्द
नैन करे संवाद
एक लौ दिखी
------------
चार थे नैना
चश्मा घर में छूटा
सब धुंधला
-----------
राज़ खोल दी
दिल में दफ़न था
आँखें बोल दी
-----------
सीमा से परे
उड़ने को तत्पर
नैन परिंदे
------------
जूझते रहे
आँखों ने सिखाया था
शूल हैं फूल


© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’