मुक्तक १











कल के हमकदम आज किधर गए
ज़र्द पत्ते थे, पतझर में बिखर गए
परछाइयों से जुदा होना आसां न था
तेज़ हवा थी अहबाब भी मुकर गए

-------------प्रियम्बरा


© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’