हायकु मुक्तक (लिखने की एक कोशिश...)


रोको ना टोको / अंतहीन आकाश / ऊँची उड़ान उड़ते रहे / मज़बूत पंख हैं / हो गया भान बिछा था जाल / खुश हुआ सैयाद/ सहमा पंछी ज़ख़्मी हैं पंख / परवाज़ की चाह / नन्ही सी जान




© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’