बूँद (चोका )

बारिश में भीगते हुए उपजा एक  ख्याल -----















प्रेम बरसा
जन्मी - नन्ही सी बूँद
नवसृजन
प्रेम में भीगी बूँद
बदला रूप
पिघलती रही थी
कतरे में ’वो’ बूँद।


© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Shishir Pathak said…
beautiful lines by the most pious soul.....