शामें-हिज़्र (त्रिवेणी )








उदास शामें, यादों के आबशार, बेकल आँखें
हर आहट पर तेरे आने की मुन्तज़िर मेरी आँखें


शामें-हिज़्र ऐसी नाशाद होंगी सोचा न था।



© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’