खाली कुर्सी

















उस खाली कुर्सी को जब भी देखती हूँ एक टीस सी उठती है कि कभी तुम वहाँ मौजूद थे।






© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’