Skip to main content

तिनका तिनका तिहाड़ : सबकी अलग कहानी


तिहाड़ कि महिला कैदियों द्वारा लिखी कविताओं का संकलन 'तिनका तिनका तिहाड़'  पढने का मौका मिला. उनकी कविताओं से याद आया मुझे वो दिन जब एक कार्यक्रम के शूट के लिए तिहाड़ में बंद महिलाओं से मिलने का मौका मिला था. तब तक जेल को मैंने या तो कल्पनाओं में देखा था या फिर फिल्मों में. पहली बार तिहाड़ के अन्दर जाते हुए एक अजीब सी सिहरन हुयी थी. वहाँ बंद महिला कैदियों से जब बातें हुई तो उनका दर्द हमें भी दुखी कर गया. उनकी बातों से एहसास हुआ कि अपनों से दूर् होने कि चुभन.... ज़िंदगी को एक चहारदिवारी के भीतर समेट लेने कि घुटन क्या होती है...और कैसे एक घटना ( दुर्घटना कहना ज़्यादा उचित होगा ) किसी कि पूरी ज़िंदगी बदल देती है. वहाँ ज्यादातर ऐसी मिली जो कहना बहुत कुछ चाहती थी पर कुछ भी कह नही पा रही थी... सिर्फ़ उनकी आँखें सजल हो जा रही थी.  और कुछ ऐसी भी मिली जो वहाँ के माहौल से पुरी तरह जुड़ गयी थी... अब सलाखों से कोई फर्क नही पड़ता था... वही उनकी दुनिया थी.

कुछ वैसा ही उनकी कविताएँ पढ़ते हुए मैंने महसूस किया. एक कसमसाहट है उनकी कविताओं में...किसी कि दुधमुँही बेटी को माँ के सहारे छोड़ सलाखों के पिछे ज़िंदगी गुजारने कि मजबूरी है... तो किसी कि एक गलती ने उसे गुनहगार बना ऐसे अंधकार में धकेल दिया जहाँ उसका साथी, परिवार सबकुछ सिर्फ़ उसकी तन्हायी है... घर के सदस्यों ने भी उस से सारे रिश्ते तोड़ लिए... तो किसी का पति भी वही एक बैरक में बंद है जिस से हफ्ते में सिर्फ़ एक दिन वो मुलाकात कर पाती है. सबकी अलग कहानी... लेकिन भाव सिर्फ़ एक... वही कसमसाहट... वही बेचैनी... वही अकेलापन... वही उदासी. रमा चौहान कि लिखी कविताएँ कैद पिंजरे कि, सलाखें, बेटी कि पुकार, माँ के लिए माफी कुछ ऐसी कविताएँ है जिससे उनकी भावनाएँ सरलता से दिल में उतर जाती है. सीमा रघुवंशी, रिया शर्मा और आरती कि कविताएँ भी कभी माँ कि ममता कि बात करती है तो कभी जीवन कि गूढ़ता कि. कुल मिलाकर ये संकलन मुझे पसंद आया... लेकिन कुछ चीज़ें खटकी... मसलन हर रचनाकार का परिचय दिया गया है जिसमें ये बताया गया है कि एक हादसे ने इन्हें सलाखों के पिछे पहुँचा दिया. अच्छा होता कि या तो उन हादसों का ज़िक्र किया जाता या फिर परिचय से इसे हटा ही दिया जाता. दूसरा इस किताब का मू्ल्य इतना ज़्यादा रखा गया है कि आम जन उससे खरीदने से पहले सोचेंगे. हालाँकि ये प्रयास बहुत ही अच्छा है... लेकिन अगर ये आम लोगो तक ना पहुँच सके तो फिर प्रयास सफल कैसे हो सकता है.
© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

This comment has been removed by the author.
Priyambara ji i am disappointed this time. You should had mentioned some lines of poetries with author name. your article is not satisfactory at all; sorry. How it is possible for us to come to know about the real pain of those victims.
This comment has been removed by the author.
सुझाव के लिए शुक्रिया वल्लभ जी. वैसे ये मैंने पुस्तक कि समीक्षा नही लिखी है, ये तो बस उसे पढ़ते हुए जो मैंने महसूस किया सिर्फ़ वही है. उम्मीद है आगे के लेखन में आपको कभी निराशा नही होगी.... धन्यवाद

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी नहीं बल्कि मनुष्य एक सामूहिक प्राणी है। पहले जाति विशेष का समूह, फिर धर्म विशेष, फिर गाँव विशेष, शहर विशेष, क्षेत्र विशेष, राज्य विशेष, भाषा विशेष, देश विशेष, विचारधारा विशेष- सुविधानुसार हम सब अपने-अपने समूह में शामिल रहते हैं। इतना ही नहीं ये सामूहिक विभेद का काम विद्यालय और महाविद्यालय स्तर पर भी चलता रहता है। बंटवारे का बीज तो हम सब बचपन से ही अपने मन में बोये रहते हैं। समय-समय पर कोई महापुरुष या स्त्री इसमें खाद पानी दे जाते हैं, और ये फलने फूलने लगते हैं। फेसबुक और व्हाट्सएप्प जैसे सोशल नेटवर्किंग प्लेटफार्म भी समूह बनाने की सहूलियतें दे रहा है। यहाँ भी लोग सामूहिक बँटवारे को बड़े प्यार से अपना रहे। अगर आपको सामूहिक बँटवारा पसंद नहीं तो भी लोग आपको बाँट कर ही रहेंगे। कोई आपको जातिगत समूह में शामिल करेगा तो कोई शहर, राज्य, पेशेगत समूह में शामिल करेगा, लेकिन बँटवारा ज़रूरी है।
बँटवारे के बाद शुरू होता है सामूहिक बड़ाई और बढ़ावा देने का सिलसिला। तू मेरी पीठ थपथपा मैं तेरी थपथपाऊँ, और अगर किसी और समूह वाले ने किसी दूसरे समूह के लोगों पर टिप्पणी कर दी तो 'च…

बुरा स्वप्न

आँखों की पुतली में हरकत 
एक आस  शायद अभी खुलेंगी आँखें  और हम पुनः जुट जाएंगे इशारों को  समझने में  लेकिन  पलकें मूँद गयी  स्थिर हो गयी पुतलियाँ  धडकनें थम गयी  चेहरे पर असीम शान्ति  हथेलियों की गर्माहट घटने लगी  क्षण भर में  बर्फ हो गयी हथेलियाँ  हर तरफ सिसकियाँ  लेकिन मैं गुम थी  विचारों के  उथल पुथल में - मृत्यु इतनी शीतल है  फिर  गर्म - खारे पानी का ये सैलाब क्यों  जब मृत्यु इतनी शांत है  फिर क्यों जूझना  भावनाओं के तूफ़ान से  मृत्यु तो सबसे बड़ा सच है  फिर झूठी ज़िन्दगी से मोह क्यों ??    



© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

महिला दिवस पर कार्यक्रमों, संदेशों, कविताओं की झड़ी लग गई है। सारे लोग अपने अपने तरीकों से महिलाओं को सशक्त करने/होने की बात कर रहे। महिला दिवस पर स्री सशक्तिकरण का जितना भी राग अलापें लेकिन ये सच है कि एक सशक्त महिला सबकी आँखों का काँटा होती है। जब वो अपने बलबूते आगे बढ़ती है, उसे कदम दर कदम अपने चरित्र को लेकर अग्नि परीक्षा देनी होती है। अगर वो सिंगल/अनब्याही है, तो हर रोज़ उसे लोगों की स्कैनर दृष्टि से गुज़रना पड़ता है। अक्सर पुरुषों की दृष्टि उसमें अपने ऑप्शन्स तलाशती रहती हैं। उम्र, जाति, खानदान यहां तक कि उनके सेक्सुअल अभिरुचि पर भी सवाल किये जाते हैं।  एकबार एक बहुत ही वरिष्ठ व्यक्ति, जो दिल्ली  में वरिष्ठ पत्रकार है, ने पूछा था, “तुमने शादी नहीं की? अकेली रहती हो या लिव इन में ? तुम्हारा पार्टनर कौन है? “ मतलब ये कि “एक महिला अकेले रहती है, कमाती है, खाती है “  ये बात किसी से हजम नहीं होती। तीस साल की होने के साथ ही शादी का ठप्पा लगना ज़रूरी हो जाता है, अगर शादी नहीं की और हँसते हुए पूरे उत्साह के साथ  जीवन गुज़ार रही तो लोगों को वैसी महिलाएं संदिग्ध नज़र आने लगती हैं। लोग अक्सर उनकी …