Skip to main content

एक मुलाक़ात

एक कार्यक्रम के सिलसिले में मुझे उषा राय से मुलाक़ात करने का मौका मिला। जी हाँ वही उषा राय जिनका नाम उन महिला पत्रकारों में शामिल है जिन लोगों ने साठ के दशक में पत्रकारिता में महिलाओं को एक मुक़म्मल स्थान दिलाने की एक पहल शुरू की थी। उनसे मुलाक़ात के बाद कई ऐसी जानकारियाँ मिली जो हम जैसे नए पत्रकारों के लिए ख़ास था। आज महिला पत्रकारों की जैसी स्थिति है हमेशा से वैसी नही थी। ये उस समय की महिला पत्रकारों के प्रयास का हीं कमाल है की आज महिलाऐं बिना किसी पाबन्दी या मुश्किलात के आसानी से पत्रकारिता कर पा रही हैं। साठ के दशक में महिलाओं को पत्रकार रखा ही नहीं जाता था। उषा जी ने एक और महिला पत्रकार प्रभा दत्त की कहानी बताई की कैसे जब वे एक प्राइवेट अखबार में नौकरी के लिए गयी तो उन्हें सिर्फ़ इसलिए मना कर दिया गया क्योंकि वे एक महिला थी। डेढ़ साल बाद उसी अखबार ने एक महिला को डेस्क पर रखा तब प्रभा जी ने उस अखबार के दफ्तर का दरवाज़ा फ़िर खटखटाया और कहा की जब उस महिला को वहाँ काम मिल सकता है तो उन्हें क्यो नही। अंत में जीत प्रभा जी की ही हुई। यही नही पहले महिला पत्रकारों के लिए मतेर्निटी लीव जैसी कोई सुविधा नही दी जाती थी। इसके लिए भी तब महिला पत्रकारों ने काफ़ी मशक्कत की। तब महिलाओं से या तो डेस्क पर काम लिया जाता था या फिर सॉफ्ट स्टोरी को कवर करने के लिए कहा जाता था।
आज समय बदल गया है, महिलाओं को हर क्षेत्र में भागीदारी मिल रही है। पर आज भी हर बार महिलाओं को पहले ये साबित करना होता है की वे अपने कार्य को लेकर गंभीर हैं, तब जाकर लोग उसे गंभीरता से लेते हैं। हर बार महिलाओं को ये साबित करना होता है की वे सिर्फ़ अपना जॉब करना चाहती हैं। हलाकि क्षेत्रीय स्तर पर आज भी महिला पत्रकारों की स्थिति में ज्यादा का अन्तर नहीं है। आज भी वहाँ महिलाऐं सुब एडिटर से ज्यादा कुछ नही बन पाती। आज भी उन्हें पैसे दिन के हिसाब से मिलते हैं। आज भी उन्हें यही समझा जाता है की वे अगर पत्रकारिता में आई हैं तो सिर्फ़ पति खोजने के लिए। आज भी क्षेत्रीय स्तर पर अखबारओं के बहुत कम ऐसे कार्यालय हैं जहाँ महिला पत्रकारों के लिए अलग से वाश रूम की व्यवस्था हो। लेकिन चाहे कुछ हो पर इतना तो यकीं है की आज नहीं तो कल वहाँ भी महिला पत्रकारों की स्थिति सुधरेगी। चलते चलते जब इतनी दूर निकल आए, तो यकीं है की हम आस्मान भी छू लेंगे।

Comments

Udan Tashtari said…
निश्चित ही स्थितियों में सुधार आया है. आगे और सुधार आये, शुभकामनाऐं.
rakhshanda said…
ठीक कहा आपने,खुदा करे हम आसमान छू लें(आमीन)
मीत said…
hi priyambara...
god bless u

tumharo ek kavita padh kar ankho mein pani a gaya..

bahut achcha likhti ho

mein tumko mail karna chahta hoo
par tumhara mail id nahin janta mera meil ID hai namyamekhla@yahoo.co.in


plz rpl plsssss
yawnika said…
वो समय और था जब नारियों के बारे में भारतेंदु हरिश्चंद्र ने भारत दुर्दशा में लिखा था
होगी कहाँ तक कर्कशा, ऐ लेखनी तू पर्वसा
गृह नारियों की जो हमारी लिख सके तू दुर्दशा ।

अब समय बदल गया हैं और अगर हम नारियों के लिये गर्व से कह सकते हैं की ......
नारी तुम केवल शरधा हो
विश्वास रजत नभ पग तल में
पीयूष श्रोत सी बहा करो
जीवन के सुंदर समतल में ।

बहुत अच्छा दीदी रोचक हैं
Deepak Shukla said…
आपकी यह पंक्ति दिल को छू गयी...
"आज भी उन्हें यही समझा जाता है की वे अगर पत्रकारिता में आई हैं तो सिर्फ़ पति खोजने के लिए।"
वस्तुतः तकरीबन हर क्षेत्र में महिलाओं की स्थिति कमोबेश यही है....फिर भी चूँकि पत्रकारिता क्षेत्र में सरकारी सेवा जैसा कोई मौका शायद उपलब्ध नहीं है तभी अखबार आदि महिलाओं के साथ मनमाना भेदभाव कर पाते हैं...हालाँकि इधर माहौल काफी कुछ बदला है...पर अभी बहुत कुछ सुधारना और बाकि है...

दीपक शुक्ल...
Deepak Shukla said…
आपकी यह पंक्ति दिल को छू गयी...
"आज भी उन्हें यही समझा जाता है की वे अगर पत्रकारिता में आई हैं तो सिर्फ़ पति खोजने के लिए।"
वस्तुतः तकरीबन हर क्षेत्र में महिलाओं की स्थिति कमोबेश यही है....फिर भी चूँकि पत्रकारिता क्षेत्र में सरकारी सेवा जैसा कोई मौका शायद उपलब्ध नहीं है तभी अखबार आदि महिलाओं के साथ मनमाना भेदभाव कर पाते हैं...हालाँकि इधर माहौल काफी कुछ बदला है...पर अभी बहुत कुछ सुधारना और बाकि है...

दीपक शुक्ल...

Popular posts from this blog

हमारे घर भी गिल्लू...

दिल्ली का घर... बिल्कुल छोटा सा... तीन कमरे का फ्लैट । कहते हैं की दिल्ली के फ्लेट्स में अगर सूरज की रोशनी पहुँच जाए तो ये बड़े सौभाग्य की बात है। कुछ ऐसा ही सौभाग्य हमें प्राप्त है। जी हाँ वैसे तो हम तीन कमरे और एक बड़े से हॉल वाले फ्लैट में रहते हैं ...लेकिन वास्तव में छोटे से क्षेत्र में ही ये चारो कमरे, रसोईघर सिमटा पड़ा है। बेडरूम से सटे एक छोटी सी बालकनी भी है जहाँ जाकर ये अहसास होता है की फ्लैट बनाने वाले ने कितना दिमाग लगाया होगा हर छोटे बड़े कोने का इस्तेमाल करने में। कहाँ हमारे आरा का घर जहाँ बालकनी में हमलोगों ने कितनी बार छुआ छुई खेली, यही नही मैंने तो वहां ढेर सारे गमले लगा रखे थे। गर्मी के दिनों में हम सब भाई बहन बालकनी में आराम से सकते थे इतनी जगह वहां थी। यहाँ... दिल्ली के घर में अगर तीन लोग खड़े हो जाएँ तो ऐसा लगता है की कितनी भीड़ हो गई ... अब चौथे के लिए जगह ही नही है।
खैर... इन सब के बावजूद हम ख़ुद को बेहद सौभाग्यशाली मानते है क्योंकि ये घर काफ़ी खुला हुआ सा है। दिन चढ़ते ही सूरज की रोशनी से हमारी नींद खुलती है। दूसरा कमरा, वो भी बालकनी से ही सटा है, बहुत से जीवों की …

सिर्फ विरोध के लिए विरोध या कुछ और ?

बचपन में चित्तौड़गढ़ की रानी पद्मावती और उसके जौहर की कथा खूब सुनी थी। किसी बाल पुस्तक में भी राजा रतन सिंह की बहादुरी के किस्से और पद्मावती के जौहर की कथा पढ़ी थी। लोककथाओं में आज भी उनके किस्से ज़िंदा हैं। फिर उन किस्सों को फिल्म के माध्यम से दिखाए जाने पर इतना बवाल क्यों ? हमें किस पर आपत्ति होनी चाहिए ? क्या आज हम फंतासी और सत्य के बीच काफर्क भूलते जा रहे हैं या फिर हम सब किसी भ्रम अथवा किसी पूर्वाग्रह में जी रहे हैं।     संजय लीला भंसाली ने पद्मावती में भी अपने पुराने अंदाज़ को बरक़रार रखा है।उन्हें अगर ‘शो मैन’ कहा जाए तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी। उनकी फिल्मों का एक स्टाइल है। उनकी फिल्मों में एक भव्यता दिखाई देती है जो आप सिनेमा हॉल में हीं महसूस कर सकते हैं। संगीत में परिवेश-माहौल का पूरा असर दिखाई पड़ता है। इस फिल्म में भी उन्होंने लोकधुन और लोकगीतों का इस्तेमाल किया है। एक तरफ राजस्थान के लोकगीत तो दूसरी ओर शेरो  शायरी और अरबिक वाद्यंत्रों का प्रयोग। मैंने जायसी के पद्मावत को नहीं पढ़ा है लेकिन इस फिल्म को देखकर उसकी कमी नहीं खली। अलाउद्दीन खिलजी की बर्बरता, पद्मावती का सौंदर्य, रा…

जाना -हिंदी की सबसे खौफनाक क्रिया है

हली बार साहित्य संसार के माध्यम से उन्हें सुनने का मौक़ा मिला था लेकिन तब मेरा काम सिर्फ और सिर्फ कार्यक्रम का प्रोडक्शन था।  इसलिए मेरा पूरा ध्यान कैमरे के कोण पर टिका था। कार्यक्रम खत्म होने के बाद हमारी बेहद छोटी और औपचारिक बातचीत हो सकी। शायद 2008 या 2009 की बात रही होगी।  उसके बाद पूरे आठ या नौ साल बाद उनका साक्षात्कार लेने का मौक़ा मिला। ये मौक़ा भी बहुत मुश्किल से मिला था। इसके लिए मैंने जाने कितनी बार उनसे फ़ोन पर बातें की।  हर बार वे तबियत खराब की बात कहकर टाल जाते थे। कभी वे दिल्ली से बाहर होते, जब दिल्ली में होते तो तबियत खराब है बोल कर बात टाल जाते और मैं हर बार उनका साक्षात्कार करने का मेरा जोश कम पड़ जाता। एक दिन जब अनामिका जी के साक्षात्कार के लिए मैं उनके घर पहुंची थी उस दिन वहीं अचानक मेरी मुलाक़ात केदारनाथ जी से हुई। मैंने उनसे बात की और उन्होंने आज्ञा दे दी।
तय दिन उनके घर पहुंचना था। अपनी ओर से पूरी तरह सतर्क थी कि कहीं गलती से भी मुझे
देर ना हो जाए। साक्षात्कार शुरू हुआ।  धीरे-धीरे मैं भी सहज होती गई। उन्होंने अपनी प्रिय
कविता कपास के फूल सुनाई। कविता सुनाने के साथ…