Friday, December 23, 2016

मौत का चक्रव्यूह

अब तक गूँज रही है कानों में
वो अधफँसी आवाज़
जो मनाया करती थी उत्सव
अपने वजूद का ।
अधफँसी आवाज़
गुनगुनाती थी ज़िन्दगी के गीत,
वो जीना चाहती थी,
हाँ, वो जीना चाहती थी,
तोड़कर, मौत के सारे चक्रव्यूह।
लड़ती रही थी ताजिंदगी
ज़िन्दगी की व्यूह रचनाओं से
जानती थी जुगत
उनसे निकल पाने की ।

उस रात अँधेरा घना था
औघड़ ने ऐसा व्यूह रचा
अंतिम चक्र में फँस कर रह गई
अभिमन्यु की तरह
वो आवाज़ खामोश हो गई सदा के लिए !!


© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

No comments:

अनंत चतुर्दशी-संस्मरण

का मथS तार... क्षीर समुद्र...का खोजS तार...अनंत भगवान... मिललें... ना। यूँ तो हमारे घर में पूजा पाठ ज़्यादा नहीं हुआ करता था। 'बाबा-अ...