Monday, September 5, 2016

हंसा सर


आज शिक्षक दिवस पर विद्यालय और शिक्षकों के बारे में दोस्तों से बातें करते हुए कब बचपन में पहुँच गयी पता ही नही चला। हम सभी बारी बारी से अपने शिक्षकों को याद कर रहे थे स्मृति में गोते लगाते हुए कब 'हंसा' सर पर ध्यान केंद्रित हो गया ध्यान ही नहीं रहा। 'हंसा सर' पुकार का नाम था, वैसे तो उनका नाम 'हंसराज महाराज' था, पर हम सब उन्हें हंसा सर ही बोलते थे। हमलोगों को वे 'कत्थक' सिखाते थे। हमेशा उन्हें झक सफ़ेद कुरता और चौड़े पाँयचे वाला पैजामा पहने ही देखा। मुंह में पान की छोटी सी गिलौरी दवबाए, बोली में अवधी की मीठास घुली रहती। केजी में रहे होंगे या उससे थोड़े बड़े जब 'कत्थक' सीखना शुरू किये थे। घुंघरू गूँथने से लेकर बाँधने तक का सलीका उन्होंने सिखाया। मैं और मेरी बड़ी बहन दोनों साथ जाते।  वैसे भी जहां दीदी जाती मुझे भी वहीँ जाना था । हंसा सर लखनऊ से लेकर बनारस घराने तक की खासियत बताया करते थे। दीदी तो सब सीख लेती, मैं पिछड़ जाती, और फिर हंसा सर पीठ पर धम धम धौल जमा देते...बहुत गुस्सा आता था, लगता था मुझे तो नापसंद करते हैं।
एक बार वे हमारे घर आए। मम्मी उनसे हमदोनों बहनों की प्रगति पूछने लगीं। मैं पास के कमरे में थी तो कान खड़ा होना स्वाभाविक था।वो बोले "बड़की तो बिजली है, नाचती है तो मन खुश हो जाता है, उसको सरस्वती जी का आशीर्वाद है।" मम्मी पूछीं और छोटकी, वो हँसते हुए बोले "अभी छोटी है, धीरे धीरे सीख जाएगी।" सर को उम्मीद थी कि मैं सीख जाऊँगी, सीख भी ली, पर सम पर आना आज तक नहीँ सीख पायी।




© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

No comments:

अनंत चतुर्दशी-संस्मरण

का मथS तार... क्षीर समुद्र...का खोजS तार...अनंत भगवान... मिललें... ना। यूँ तो हमारे घर में पूजा पाठ ज़्यादा नहीं हुआ करता था। 'बाबा-अ...