Skip to main content

कॉलेज के दिन

पुरानी डायरियों के पन्ने पलटते हुए अक्सर कई -कई घटनाएं ज़ेहन में ताज़ा हो जाती हैं। कल ऐसे ही पुराने दिनों को याद कर रही थी, पन्ने पलटते हुए कॉलेज के दिनों की यादों में खो गयी।  तब की कुछ घटनाओं का ज़िक्र था उसमें।

उन दिनों  दसवीं बोर्ड देने के बाद इंटर के लिए कॉलेज में ही नामांकन लेना होता था।  हमारे आरा में बमुश्किल एक या दो विद्यालय ही ऐसे थे जहां इंटर की पढ़ाई की सुविधा थी। इंटर में नामांकन लेने के लिए भी हमारे लिए सबसे उपयुक्त  'महाराजा कॉलेज' ही था, इसका सबसे आसान कारण था,  उसका एक गेट हमारे मोहल्ले में खुलता था , यानि घर के बिलकुल पास।  मेरे घर की छत से तो उस कॉलेज का मैदान भी नज़र आता था।  सहशिक्षा वाला कॉलेज था। लड़के और लडकियां साथ पढ़ते थे, वैसे कहने को साथ थे, लड़कियों के लिए कक्षा में आगे की तीन बेंच आरक्षित रहती थी उसके पीछे की बेंच खाली, फिर लड़के बैठते थे। क्लास भी हमेशा नहीं चला करती, लड़कियों को तो ये भी सुविधा थी कि जिस रोज़ क्लास चलने वाला हो लड़के बता कर जाते थे।   जबतक प्रोफेसर क्लास में ना जाएँ लड़कियों को जाने की अनुमति नहीं थी। शिक्षक के साथ साथ या यूँ कह लें पीछे पीछे हम लडकियां होते थे, यानि लड़के -लड़कियों के बीच के फर्क को समझाया जाने लगा था। हम लड़कियों को लड़कों से डरना चाहिए ये भी सिखाया जाने लगा था, हालांकि मुझे तो बचपन में ही पापा ने किसी से भी नहीं डरने की शिक्षा दी थी, जब पहली बार राह चलते मुझपर कमेंट हुआ था और मैं दुखी होकर पापा से साझा की थी तो पापा ने यही कहा था कि " हाथी चले बाज़ार कुत्ता भूके हज़ार" इसलिए इनकी कोई अहमियत नहीं, अपना काम करो।  बस तब से ना तो मुझे किसी से कभी डर  लगा और ना मैं कभी किसी की बकवास टिप्पणियों से परेशान हुई, लेकिन कॉलेज में तो उलट बातें सिखाई जा रही थी, जैसे कि सहपाठी दोस्त ना होकर भूत हों।

मैं बड़ी असमंजस में रहती जैसे वे छात्र वैसे हम फिर उन्हें कक्षा में जाने की अनुमति हमें क्यों नहीं ?  लड़कियों का कॉमन रूम प्राचार्य के कार्यालय के बगल में था , यानि लडकियां हर पल निगरानी में रहती थीं।  आज भी उस निगरानी को याद कर गुस्सा आ जाता है।

कॉलेज में पहले ही दिन बता दिया गया था कि लड़कियों का ड्रेस कोड सलवार, कुर्ता और दुपट्टा है।  बस समस्या यही से शुरू हुई थी।  मुझे हमेशा से ही दुपट्टा एक बोझ लगा है, मुझे आज भी उसे सही तरीके से लेने का सलीका नहीं आया है। अगर मैं उसे ले लूँ तो खुद बेतरतीब हो जाती हूँ।  जब तक की ड्रेस की डिमांड ना हो मैं इससे परहेज ही करती हूँ।

लड़कियों के लिए ये नियम था, जिसका पालन सभी मनोयोग से करती थीं । लड़कों के लिए ऐसा कोई नियम था मुझे याद नहीं।  उनके लिए बस एक ही नियम था लड़कियों के कॉमन रूम में नहीं जाना, जिसे तोड़ने में उन्हें कभी कभी कामयाबी मिल जाती थी।

मम्मी अपने हाथों से मेरे लिए एक कुर्ता सिली थीं। हरे रंग का बैगी बाहों वाला, जिस पर सिलाई की और भी कारीगरी थी।  ढीला ढाला, बेहद आरामदायक , बहुत ही प्यारा सा कुर्ता था। मैं उसे पहन कर, बिना दुपट्टे के कॉलेज चली गयी। उस दिन मेरी इस हिमाकत के लिए ना तो किसी शिक्षक ने टोका ना प्राचार्य ने लेकिन हमारी सहपाठी लड़कियों में से कुछ की त्योरियां चढ़ गयी,वे पीठ पीछे मेरी दोस्तों से बोलने लगी, उन्होंने आकर मुझे बताया।  मुझे ऐसा लगा जैसे मैंने कोई गुनाह कर दिया हो।  धीरे धीरे मेरी दोस्तों के साथ ही अन्य सहपाठी लडकियां मुझे समझाने लगीं, मैं अड़ी हुयी थी, लेकिन अंततः हार मान ली और क्लास ख़त्म होने के साथ ही मैं घर गयी और दुपट्टा लेकर आयी।

कल इसे पढ़कर महिलाओं / लड़कियों के मनोविज्ञान पर देर तक सोचती रही  - और हंसती रही।       


© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी नहीं बल्कि मनुष्य एक सामूहिक प्राणी है। पहले जाति विशेष का समूह, फिर धर्म विशेष, फिर गाँव विशेष, शहर विशेष, क्षेत्र विशेष, राज्य विशेष, भाषा विशेष, देश विशेष, विचारधारा विशेष- सुविधानुसार हम सब अपने-अपने समूह में शामिल रहते हैं। इतना ही नहीं ये सामूहिक विभेद का काम विद्यालय और महाविद्यालय स्तर पर भी चलता रहता है। बंटवारे का बीज तो हम सब बचपन से ही अपने मन में बोये रहते हैं। समय-समय पर कोई महापुरुष या स्त्री इसमें खाद पानी दे जाते हैं, और ये फलने फूलने लगते हैं। फेसबुक और व्हाट्सएप्प जैसे सोशल नेटवर्किंग प्लेटफार्म भी समूह बनाने की सहूलियतें दे रहा है। यहाँ भी लोग सामूहिक बँटवारे को बड़े प्यार से अपना रहे। अगर आपको सामूहिक बँटवारा पसंद नहीं तो भी लोग आपको बाँट कर ही रहेंगे। कोई आपको जातिगत समूह में शामिल करेगा तो कोई शहर, राज्य, पेशेगत समूह में शामिल करेगा, लेकिन बँटवारा ज़रूरी है।
बँटवारे के बाद शुरू होता है सामूहिक बड़ाई और बढ़ावा देने का सिलसिला। तू मेरी पीठ थपथपा मैं तेरी थपथपाऊँ, और अगर किसी और समूह वाले ने किसी दूसरे समूह के लोगों पर टिप्पणी कर दी तो 'च…

बुरा स्वप्न

आँखों की पुतली में हरकत 
एक आस  शायद अभी खुलेंगी आँखें  और हम पुनः जुट जाएंगे इशारों को  समझने में  लेकिन  पलकें मूँद गयी  स्थिर हो गयी पुतलियाँ  धडकनें थम गयी  चेहरे पर असीम शान्ति  हथेलियों की गर्माहट घटने लगी  क्षण भर में  बर्फ हो गयी हथेलियाँ  हर तरफ सिसकियाँ  लेकिन मैं गुम थी  विचारों के  उथल पुथल में - मृत्यु इतनी शीतल है  फिर  गर्म - खारे पानी का ये सैलाब क्यों  जब मृत्यु इतनी शांत है  फिर क्यों जूझना  भावनाओं के तूफ़ान से  मृत्यु तो सबसे बड़ा सच है  फिर झूठी ज़िन्दगी से मोह क्यों ??    



© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

महिला दिवस पर कार्यक्रमों, संदेशों, कविताओं की झड़ी लग गई है। सारे लोग अपने अपने तरीकों से महिलाओं को सशक्त करने/होने की बात कर रहे। महिला दिवस पर स्री सशक्तिकरण का जितना भी राग अलापें लेकिन ये सच है कि एक सशक्त महिला सबकी आँखों का काँटा होती है। जब वो अपने बलबूते आगे बढ़ती है, उसे कदम दर कदम अपने चरित्र को लेकर अग्नि परीक्षा देनी होती है। अगर वो सिंगल/अनब्याही है, तो हर रोज़ उसे लोगों की स्कैनर दृष्टि से गुज़रना पड़ता है। अक्सर पुरुषों की दृष्टि उसमें अपने ऑप्शन्स तलाशती रहती हैं। उम्र, जाति, खानदान यहां तक कि उनके सेक्सुअल अभिरुचि पर भी सवाल किये जाते हैं।  एकबार एक बहुत ही वरिष्ठ व्यक्ति, जो दिल्ली  में वरिष्ठ पत्रकार है, ने पूछा था, “तुमने शादी नहीं की? अकेली रहती हो या लिव इन में ? तुम्हारा पार्टनर कौन है? “ मतलब ये कि “एक महिला अकेले रहती है, कमाती है, खाती है “  ये बात किसी से हजम नहीं होती। तीस साल की होने के साथ ही शादी का ठप्पा लगना ज़रूरी हो जाता है, अगर शादी नहीं की और हँसते हुए पूरे उत्साह के साथ  जीवन गुज़ार रही तो लोगों को वैसी महिलाएं संदिग्ध नज़र आने लगती हैं। लोग अक्सर उनकी …