Skip to main content

कॉलेज के दिन

पुरानी डायरियों के पन्ने पलटते हुए अक्सर कई -कई घटनाएं ज़ेहन में ताज़ा हो जाती हैं। कल ऐसे ही पुराने दिनों को याद कर रही थी, पन्ने पलटते हुए कॉलेज के दिनों की यादों में खो गयी।  तब की कुछ घटनाओं का ज़िक्र था उसमें।

उन दिनों  दसवीं बोर्ड देने के बाद इंटर के लिए कॉलेज में ही नामांकन लेना होता था।  हमारे आरा में बमुश्किल एक या दो विद्यालय ही ऐसे थे जहां इंटर की पढ़ाई की सुविधा थी। इंटर में नामांकन लेने के लिए भी हमारे लिए सबसे उपयुक्त  'महाराजा कॉलेज' ही था, इसका सबसे आसान कारण था,  उसका एक गेट हमारे मोहल्ले में खुलता था , यानि घर के बिलकुल पास।  मेरे घर की छत से तो उस कॉलेज का मैदान भी नज़र आता था।  सहशिक्षा वाला कॉलेज था। लड़के और लडकियां साथ पढ़ते थे, वैसे कहने को साथ थे, लड़कियों के लिए कक्षा में आगे की तीन बेंच आरक्षित रहती थी उसके पीछे की बेंच खाली, फिर लड़के बैठते थे। क्लास भी हमेशा नहीं चला करती, लड़कियों को तो ये भी सुविधा थी कि जिस रोज़ क्लास चलने वाला हो लड़के बता कर जाते थे।   जबतक प्रोफेसर क्लास में ना जाएँ लड़कियों को जाने की अनुमति नहीं थी। शिक्षक के साथ साथ या यूँ कह लें पीछे पीछे हम लडकियां होते थे, यानि लड़के -लड़कियों के बीच के फर्क को समझाया जाने लगा था। हम लड़कियों को लड़कों से डरना चाहिए ये भी सिखाया जाने लगा था, हालांकि मुझे तो बचपन में ही पापा ने किसी से भी नहीं डरने की शिक्षा दी थी, जब पहली बार राह चलते मुझपर कमेंट हुआ था और मैं दुखी होकर पापा से साझा की थी तो पापा ने यही कहा था कि " हाथी चले बाज़ार कुत्ता भूके हज़ार" इसलिए इनकी कोई अहमियत नहीं, अपना काम करो।  बस तब से ना तो मुझे किसी से कभी डर  लगा और ना मैं कभी किसी की बकवास टिप्पणियों से परेशान हुई, लेकिन कॉलेज में तो उलट बातें सिखाई जा रही थी, जैसे कि सहपाठी दोस्त ना होकर भूत हों।

मैं बड़ी असमंजस में रहती जैसे वे छात्र वैसे हम फिर उन्हें कक्षा में जाने की अनुमति हमें क्यों नहीं ?  लड़कियों का कॉमन रूम प्राचार्य के कार्यालय के बगल में था , यानि लडकियां हर पल निगरानी में रहती थीं।  आज भी उस निगरानी को याद कर गुस्सा आ जाता है।

कॉलेज में पहले ही दिन बता दिया गया था कि लड़कियों का ड्रेस कोड सलवार, कुर्ता और दुपट्टा है।  बस समस्या यही से शुरू हुई थी।  मुझे हमेशा से ही दुपट्टा एक बोझ लगा है, मुझे आज भी उसे सही तरीके से लेने का सलीका नहीं आया है। अगर मैं उसे ले लूँ तो खुद बेतरतीब हो जाती हूँ।  जब तक की ड्रेस की डिमांड ना हो मैं इससे परहेज ही करती हूँ।

लड़कियों के लिए ये नियम था, जिसका पालन सभी मनोयोग से करती थीं । लड़कों के लिए ऐसा कोई नियम था मुझे याद नहीं।  उनके लिए बस एक ही नियम था लड़कियों के कॉमन रूम में नहीं जाना, जिसे तोड़ने में उन्हें कभी कभी कामयाबी मिल जाती थी।

मम्मी अपने हाथों से मेरे लिए एक कुर्ता सिली थीं। हरे रंग का बैगी बाहों वाला, जिस पर सिलाई की और भी कारीगरी थी।  ढीला ढाला, बेहद आरामदायक , बहुत ही प्यारा सा कुर्ता था। मैं उसे पहन कर, बिना दुपट्टे के कॉलेज चली गयी। उस दिन मेरी इस हिमाकत के लिए ना तो किसी शिक्षक ने टोका ना प्राचार्य ने लेकिन हमारी सहपाठी लड़कियों में से कुछ की त्योरियां चढ़ गयी,वे पीठ पीछे मेरी दोस्तों से बोलने लगी, उन्होंने आकर मुझे बताया।  मुझे ऐसा लगा जैसे मैंने कोई गुनाह कर दिया हो।  धीरे धीरे मेरी दोस्तों के साथ ही अन्य सहपाठी लडकियां मुझे समझाने लगीं, मैं अड़ी हुयी थी, लेकिन अंततः हार मान ली और क्लास ख़त्म होने के साथ ही मैं घर गयी और दुपट्टा लेकर आयी।

कल इसे पढ़कर महिलाओं / लड़कियों के मनोविज्ञान पर देर तक सोचती रही  - और हंसती रही।       


© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Popular posts from this blog

हमारे घर भी गिल्लू...

दिल्ली का घर... बिल्कुल छोटा सा... तीन कमरे का फ्लैट । कहते हैं की दिल्ली के फ्लेट्स में अगर सूरज की रोशनी पहुँच जाए तो ये बड़े सौभाग्य की बात है। कुछ ऐसा ही सौभाग्य हमें प्राप्त है। जी हाँ वैसे तो हम तीन कमरे और एक बड़े से हॉल वाले फ्लैट में रहते हैं ...लेकिन वास्तव में छोटे से क्षेत्र में ही ये चारो कमरे, रसोईघर सिमटा पड़ा है। बेडरूम से सटे एक छोटी सी बालकनी भी है जहाँ जाकर ये अहसास होता है की फ्लैट बनाने वाले ने कितना दिमाग लगाया होगा हर छोटे बड़े कोने का इस्तेमाल करने में। कहाँ हमारे आरा का घर जहाँ बालकनी में हमलोगों ने कितनी बार छुआ छुई खेली, यही नही मैंने तो वहां ढेर सारे गमले लगा रखे थे। गर्मी के दिनों में हम सब भाई बहन बालकनी में आराम से सकते थे इतनी जगह वहां थी। यहाँ... दिल्ली के घर में अगर तीन लोग खड़े हो जाएँ तो ऐसा लगता है की कितनी भीड़ हो गई ... अब चौथे के लिए जगह ही नही है।
खैर... इन सब के बावजूद हम ख़ुद को बेहद सौभाग्यशाली मानते है क्योंकि ये घर काफ़ी खुला हुआ सा है। दिन चढ़ते ही सूरज की रोशनी से हमारी नींद खुलती है। दूसरा कमरा, वो भी बालकनी से ही सटा है, बहुत से जीवों की …

सिर्फ विरोध के लिए विरोध या कुछ और ?

बचपन में चित्तौड़गढ़ की रानी पद्मावती और उसके जौहर की कथा खूब सुनी थी। किसी बाल पुस्तक में भी राजा रतन सिंह की बहादुरी के किस्से और पद्मावती के जौहर की कथा पढ़ी थी। लोककथाओं में आज भी उनके किस्से ज़िंदा हैं। फिर उन किस्सों को फिल्म के माध्यम से दिखाए जाने पर इतना बवाल क्यों ? हमें किस पर आपत्ति होनी चाहिए ? क्या आज हम फंतासी और सत्य के बीच काफर्क भूलते जा रहे हैं या फिर हम सब किसी भ्रम अथवा किसी पूर्वाग्रह में जी रहे हैं।     संजय लीला भंसाली ने पद्मावती में भी अपने पुराने अंदाज़ को बरक़रार रखा है।उन्हें अगर ‘शो मैन’ कहा जाए तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी। उनकी फिल्मों का एक स्टाइल है। उनकी फिल्मों में एक भव्यता दिखाई देती है जो आप सिनेमा हॉल में हीं महसूस कर सकते हैं। संगीत में परिवेश-माहौल का पूरा असर दिखाई पड़ता है। इस फिल्म में भी उन्होंने लोकधुन और लोकगीतों का इस्तेमाल किया है। एक तरफ राजस्थान के लोकगीत तो दूसरी ओर शेरो  शायरी और अरबिक वाद्यंत्रों का प्रयोग। मैंने जायसी के पद्मावत को नहीं पढ़ा है लेकिन इस फिल्म को देखकर उसकी कमी नहीं खली। अलाउद्दीन खिलजी की बर्बरता, पद्मावती का सौंदर्य, रा…

जाना -हिंदी की सबसे खौफनाक क्रिया है

हली बार साहित्य संसार के माध्यम से उन्हें सुनने का मौक़ा मिला था लेकिन तब मेरा काम सिर्फ और सिर्फ कार्यक्रम का प्रोडक्शन था।  इसलिए मेरा पूरा ध्यान कैमरे के कोण पर टिका था। कार्यक्रम खत्म होने के बाद हमारी बेहद छोटी और औपचारिक बातचीत हो सकी। शायद 2008 या 2009 की बात रही होगी।  उसके बाद पूरे आठ या नौ साल बाद उनका साक्षात्कार लेने का मौक़ा मिला। ये मौक़ा भी बहुत मुश्किल से मिला था। इसके लिए मैंने जाने कितनी बार उनसे फ़ोन पर बातें की।  हर बार वे तबियत खराब की बात कहकर टाल जाते थे। कभी वे दिल्ली से बाहर होते, जब दिल्ली में होते तो तबियत खराब है बोल कर बात टाल जाते और मैं हर बार उनका साक्षात्कार करने का मेरा जोश कम पड़ जाता। एक दिन जब अनामिका जी के साक्षात्कार के लिए मैं उनके घर पहुंची थी उस दिन वहीं अचानक मेरी मुलाक़ात केदारनाथ जी से हुई। मैंने उनसे बात की और उन्होंने आज्ञा दे दी।
तय दिन उनके घर पहुंचना था। अपनी ओर से पूरी तरह सतर्क थी कि कहीं गलती से भी मुझे
देर ना हो जाए। साक्षात्कार शुरू हुआ।  धीरे-धीरे मैं भी सहज होती गई। उन्होंने अपनी प्रिय
कविता कपास के फूल सुनाई। कविता सुनाने के साथ…