Wednesday, August 12, 2015

यूँ ही ....









हरचन्द ना तू हबीब है, ना है रकीब मेरा,
तो भी अबस है ये जीस्त जिसमें तू नही।
तेरी सोहबत हयातो-मौत- ही सही फिर भी,
ज़िन्दगी अब तुझसे पहली-सी मोहब्बत ना रही ।




© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

No comments:

अनंत चतुर्दशी-संस्मरण

का मथS तार... क्षीर समुद्र...का खोजS तार...अनंत भगवान... मिललें... ना। यूँ तो हमारे घर में पूजा पाठ ज़्यादा नहीं हुआ करता था। 'बाबा-अ...