आत्मसात













रकसां में डूबी,
बादलों से उतरी थी,
नन्ही सतरंगी परियां -
मेरे घर की दहलीज़ पे
नाचती रही थी देर तक
फिर एक - एक कर समा गई
मेरी रूह में -

बारिश की बूंदों को, नाचते हुए, देखा है कभी ?

© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’