ज़िन्दगी









कभी पतझड़,कभी सावन,
कभी सहरा, तो कभी चमन,
क़िस्सा-ए-ज़ीस्त भटकन के सिवा 
और कुछ भी तो नहीं।



© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’