शेष (क्षणिका)


















कुछ पीले, उदास दिन,
चंद खामोश, डूबती शामें,
अनगिनत जागती रातें,
और...
सफ़ेद, संदली, सुबह का इंतज़ार -
ज़िन्दगी के पन्नों में,
अब यही तो शेष है ।

© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’