आईना

चाहे सोने के फ्रेम में जड़ दो, आईना झूठ बोलता ही नहीं ---- ‘नूर’

Monday, April 28, 2014

फितरत (त्रिवेणी )







यूँ तो चमकता माहताब था हमसफ़र उसका,
फिर क्यों सिमट आयी आफताब की बाहों में रात

मुद्दतें बीत गयी इश्क़ ज़हीन ना हुआ।




© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!


Labels: ,