चंद हाइकु


















  
अमृत घट
बूँद नहीं बरसे
 तडपे मीन।

-------------

 मोक्ष की चाह
सर्वस्व समर्पित
 बंधन टूटे।







© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’