रंग

















हर रंग को 
बाँध लिया है मैंने
आँचल में
जब भी फीकी पड़ेगी
तुम्हारी ज़िन्दगी की रंगत
कुछ गहरे कुछ हल्के रंग
मल दूँगी
ज़िन्दगी के चेहरे पर।




© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’