सवेरा (हाइगा)

















कोयल कूकी रश्मि खिलखिलाई अन्धेरा छँटा 


© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

jyoti khare said…
वाह बहुत खूब---

आग्रह है- मेरे ब्लॉग में भी सम्मलित हों
हम बेमतलब क्यों डर रहें हैं ----
Priyambara Buxi said…
शुक्रिया...

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’