Tuesday, August 5, 2014

रात (हाइगा )


















उदास धूप
रवि ने मुख मोड़ा
तम गहरा


© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

2 comments:

jyoti khare said...

भावुक रचना
उत्कृष्ट --


Priyambara Buxi said...

आभार

अनंत चतुर्दशी-संस्मरण

का मथS तार... क्षीर समुद्र...का खोजS तार...अनंत भगवान... मिललें... ना। यूँ तो हमारे घर में पूजा पाठ ज़्यादा नहीं हुआ करता था। 'बाबा-अ...