रात (हाइगा )


















उदास धूप
रवि ने मुख मोड़ा
तम गहरा


© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

jyoti khare said…
भावुक रचना
उत्कृष्ट --


Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’