बूँद (चोका )

बारिश में भीगते हुए उपजा एक  ख्याल -----















प्रेम बरसा
जन्मी - नन्ही सी बूँद
नवसृजन
प्रेम में भीगी बूँद
बदला रूप
पिघलती रही थी
कतरे में ’वो’ बूँद।


© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Shishir Pathak said…
beautiful lines by the most pious soul.....

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’