परिंदे (तांका )










तिनका जोड़ा
चिड़ियों ने बनाया  
छोटा घोंसला
घोंसले में अंडे थे
चिड़ियां उन्हें सेती
चूजे निकले  
चिड़ियां खाना लाई  
चोंच में डाला  
फुर्र-से उड़ गई  
चहचहाते चूजे  
हमारा घर
क्रीड़ास्थल बना था
चूजे उड़ते
गिरते - संभलते
चिड़ियाँ सिखाती थी
चंद दिनों में
चूजे उड़ना सीखे
घोंसला-घर
वीरान हो चुका था
परिंदे उड़ चले  ।






© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’