जो यह पता होता....










काश,
शबनम  में  भीगी
उस मीठी रात को
चंद पलों के  लिए
रोक लेती,
क़ैद कर लेती मुठ्ठियों में,
पलकों में छिपा लेती-
जो यह पता होता
कि सुबह की लालिमा
तुम्हे मुझसे
जुदा  कर जाएगी
ना कुछ पल के लिए
ना एक ज़िंदगी के लिए
शायद,
युगों - युगों के लिए .





© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’