त्रिवेणी - 1






बरसे अब्र बुझ गयी शाखाओं की प्यास 
फिर आयी नवकोपलें बहारो के साथ

परिंदों का होगा बसेरा फिर एक बार .



© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’