Skip to main content

आख़िर जिया ने ऐसा क्यों किया ?





जिया खान नही रही. वैसे एक अदाकारा के तौर पर वे मुझे कुछ ख़ास पसंद नही थी, किन्तु जिस तरीके से उन्होंने अपनी ज़िंदगी खत्म कर ली, एक महिला के तौर पर ना चाहते हुए भी मैं उस से जुड़ती चली गयी. एक समय तो ऐसा लगा कि कुछ देर और उसकी कहानी टी वी पर देखी तो भावनात्मक रुप से कमजोर हो जाऊँगी.
एक 25 साल कि प्यार में पागल युवती, जिसने अपने प्यार को साबित करने के लिए अंततः खुदकुशी का सहारा लिया . प्यार में पागल होने का पता भी उसके पत्र से चलता है, जिसपर उसके हस्ताक्षर भी नही है... जिसमें बहुत ही निजी बातें भी लिखी गयी है, जिसे चैनल वाले बार बार दिखा रहे है. जिन बातों को उसने  अब तक सबसे छिपाया होगा वो सार्वजनिक हो चुका है.

ज कि पीढ़ी "मूव ऑन" वाली है... जब तक प्यार है तब तक रिश्ता है नही तो रास्ते अलग. किसी के लिए जान देने जैसी घटनाएँ अब 'रेअर' होती हैं. आमतौर पर ऐसे कदम अत्यधिक गुस्से में या अत्यधिक डिप्रेशन के कारण उठाते हुए ही अब तक देखा, सुना या पढ़ा है. फिर किसी दुसरे की वजह से ख़ुद को खत्म कर देना ये कहाँ तक सही है ?  

मेरे दिमाग में बार बार यही सवाल आ रहा है कि आख़िर जिया ने ऐसा क्यों किया ? क्या 25 साल कि उम्र में उसे ये एहसास हो गया कि बस अब ज़िंदगी में कुछ रखा नही है... या सच में वो कुछ साबित करना चाहती थी... या फिर ये फैसला बेहद तनाव में लिया गया था. जो भी हो सच यही है कि मामले को उलझा छोड़, सबको सकते में डाल... जिया अब इस दुनिया में नही रही.


© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

Comments

Shishir Pathak said…
i equally feel bad particularly for the reason she raised that she had to abort her child...this may has caused a trauma n forced her to take such unfortunate decision....rest in peace
Yes Shishir...what i feel i have written... but that was really an unfortunate decison.

Popular posts from this blog

हमारे घर भी गिल्लू...

दिल्ली का घर... बिल्कुल छोटा सा... तीन कमरे का फ्लैट । कहते हैं की दिल्ली के फ्लेट्स में अगर सूरज की रोशनी पहुँच जाए तो ये बड़े सौभाग्य की बात है। कुछ ऐसा ही सौभाग्य हमें प्राप्त है। जी हाँ वैसे तो हम तीन कमरे और एक बड़े से हॉल वाले फ्लैट में रहते हैं ...लेकिन वास्तव में छोटे से क्षेत्र में ही ये चारो कमरे, रसोईघर सिमटा पड़ा है। बेडरूम से सटे एक छोटी सी बालकनी भी है जहाँ जाकर ये अहसास होता है की फ्लैट बनाने वाले ने कितना दिमाग लगाया होगा हर छोटे बड़े कोने का इस्तेमाल करने में। कहाँ हमारे आरा का घर जहाँ बालकनी में हमलोगों ने कितनी बार छुआ छुई खेली, यही नही मैंने तो वहां ढेर सारे गमले लगा रखे थे। गर्मी के दिनों में हम सब भाई बहन बालकनी में आराम से सकते थे इतनी जगह वहां थी। यहाँ... दिल्ली के घर में अगर तीन लोग खड़े हो जाएँ तो ऐसा लगता है की कितनी भीड़ हो गई ... अब चौथे के लिए जगह ही नही है।
खैर... इन सब के बावजूद हम ख़ुद को बेहद सौभाग्यशाली मानते है क्योंकि ये घर काफ़ी खुला हुआ सा है। दिन चढ़ते ही सूरज की रोशनी से हमारी नींद खुलती है। दूसरा कमरा, वो भी बालकनी से ही सटा है, बहुत से जीवों की …

सिर्फ विरोध के लिए विरोध या कुछ और ?

बचपन में चित्तौड़गढ़ की रानी पद्मावती और उसके जौहर की कथा खूब सुनी थी। किसी बाल पुस्तक में भी राजा रतन सिंह की बहादुरी के किस्से और पद्मावती के जौहर की कथा पढ़ी थी। लोककथाओं में आज भी उनके किस्से ज़िंदा हैं। फिर उन किस्सों को फिल्म के माध्यम से दिखाए जाने पर इतना बवाल क्यों ? हमें किस पर आपत्ति होनी चाहिए ? क्या आज हम फंतासी और सत्य के बीच काफर्क भूलते जा रहे हैं या फिर हम सब किसी भ्रम अथवा किसी पूर्वाग्रह में जी रहे हैं।     संजय लीला भंसाली ने पद्मावती में भी अपने पुराने अंदाज़ को बरक़रार रखा है।उन्हें अगर ‘शो मैन’ कहा जाए तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी। उनकी फिल्मों का एक स्टाइल है। उनकी फिल्मों में एक भव्यता दिखाई देती है जो आप सिनेमा हॉल में हीं महसूस कर सकते हैं। संगीत में परिवेश-माहौल का पूरा असर दिखाई पड़ता है। इस फिल्म में भी उन्होंने लोकधुन और लोकगीतों का इस्तेमाल किया है। एक तरफ राजस्थान के लोकगीत तो दूसरी ओर शेरो  शायरी और अरबिक वाद्यंत्रों का प्रयोग। मैंने जायसी के पद्मावत को नहीं पढ़ा है लेकिन इस फिल्म को देखकर उसकी कमी नहीं खली। अलाउद्दीन खिलजी की बर्बरता, पद्मावती का सौंदर्य, रा…

जाना -हिंदी की सबसे खौफनाक क्रिया है

हली बार साहित्य संसार के माध्यम से उन्हें सुनने का मौक़ा मिला था लेकिन तब मेरा काम सिर्फ और सिर्फ कार्यक्रम का प्रोडक्शन था।  इसलिए मेरा पूरा ध्यान कैमरे के कोण पर टिका था। कार्यक्रम खत्म होने के बाद हमारी बेहद छोटी और औपचारिक बातचीत हो सकी। शायद 2008 या 2009 की बात रही होगी।  उसके बाद पूरे आठ या नौ साल बाद उनका साक्षात्कार लेने का मौक़ा मिला। ये मौक़ा भी बहुत मुश्किल से मिला था। इसके लिए मैंने जाने कितनी बार उनसे फ़ोन पर बातें की।  हर बार वे तबियत खराब की बात कहकर टाल जाते थे। कभी वे दिल्ली से बाहर होते, जब दिल्ली में होते तो तबियत खराब है बोल कर बात टाल जाते और मैं हर बार उनका साक्षात्कार करने का मेरा जोश कम पड़ जाता। एक दिन जब अनामिका जी के साक्षात्कार के लिए मैं उनके घर पहुंची थी उस दिन वहीं अचानक मेरी मुलाक़ात केदारनाथ जी से हुई। मैंने उनसे बात की और उन्होंने आज्ञा दे दी।
तय दिन उनके घर पहुंचना था। अपनी ओर से पूरी तरह सतर्क थी कि कहीं गलती से भी मुझे
देर ना हो जाए। साक्षात्कार शुरू हुआ।  धीरे-धीरे मैं भी सहज होती गई। उन्होंने अपनी प्रिय
कविता कपास के फूल सुनाई। कविता सुनाने के साथ…