मैं आजाद हूँ नहीं

मैं आजाद हूँ नहीं

पर दिखती हूँ ।

मैं भी उड़ना चाहती हूँ,

असीम - अनंत आकाश में ।

आजाद होना चाहती हूँ,

भावनाओं के बंधन से,

कर्तव्यों से,

जिम्मेदारियों से,

अपने आप से ।

पर सच है कि मैं आजाद हूँ नहीं

दिखती हूँ ।

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’