Skip to main content

...जो छुट गया वह कहाँ मिले.



सरस्वती पूजा के साथ ही शुरू हो जाता है पावन बसंत। बचपन से ही मुझे बसंत का मौसम बेहद पसंद है । इस मौसम में न तो ज़्यादा ठण्ड होती है और न ही गर्मी । आम के पेड़ों पर मंजर आ जाता है ,
ज्यादातर फूलों के खिलने का मौसम भी यही होता है।

बसंत बह त्रिविध , सब कहे सुलभ पदारथ चारी। '

एक समय था जब हमारे आरा के घर के बागीचे में बड़े वाले नीबूं, जिसे उधर की भाषा में घाघर बोलते हैं, का पेड़ हुआ करता था । इस मौसम में ही उसमे फूल लगते हैं। जब हम अपने कमरे की खिड़कियाँ खोलते थे। उसकी खुशबू से सारा कमरा भर जाता था। वो ऐसी खुशबू थी जिसे नहीं भूल पाई हूँ मैं आज तक। ऐसा लगता था की किसी रूहानी दुनिया का सुख मिल गया हो । शायद यही कारन रहा हो... यही वो अनुभव रहा हो जिससे प्यार का पर्व भी इसी मौसम में आता है। प्यार भी तो वही अहसास है जो रूह से रूह तक जाता है।

बसंत के बाद ही फागुन का महिना होता है । गांवों में तो बसंत के बाद ही होली की शुरुआत हो जाती है। ' साहब सेवक एक संग, खेले सदा बसंत '।

जगह जगह फगुआ गाना शुरू कर देती है टोली। हालांकि मुझे ख़ास देहात के फगुआ का मजा तो कभी नहीं मिला लेकिन लोगों से सुनकर उसके आनंद को मैंने महसूस किया है। जैसे मौसम में मुझे बसंत प्रिये है वैसे ही त्यौहारओं में होली जाने क्यों मुझे बेहद पसंद है। होली की मस्ती ... होली का हंगामा दिल में एक हलचल मचा देता है। रंग लगवाने को लेकर पहले ना ...ना ...ना, फ़िर हाँ ...हाँ उफ़ बचपन की मस्ती की बात ही कुछ और थी । उसकी ही यादें है जो आज भी मुझे ये सबकुछ बेहद पसंद है। लेकिन हाँ वो निश्चिन्तता... वो अल्हरपन ... वो समय अब ना रहा ... वो हम ना रहे।

Comments

मुझे रंगो से एलर्जी है इसलिये होली नहीं भाती।
विनय said…
बहुत आकर्षक है लेखनी !
आशीष said…
holi aane me abhi vakhat hai...lekin apne to abhi se hi blog ko holimay kar diya hai...


ashish maharishi
Bandmru said…
pariwartan sansar ka niyam hai...... wo yaden hai... aur rahengi.... isi men khush hona hai..... waise aachchha likha hai aapne......holi haiiiiii.
Udan Tashtari said…
वो समय अब ना रहा ...
बहुत सुंदर ढंग से अपने बचपन के बारे में लिखा है....
pallavi trivedi said…
मुझे याद है हमारे स्कूल में बसंत पंचमी को सब पीले कपडे पहनकर आते थे और केसर वाला भात भी बनता था....अब तो सचमुच जमाना बीत गया!

Popular posts from this blog

हमारे घर भी गिल्लू...

दिल्ली का घर... बिल्कुल छोटा सा... तीन कमरे का फ्लैट । कहते हैं की दिल्ली के फ्लेट्स में अगर सूरज की रोशनी पहुँच जाए तो ये बड़े सौभाग्य की बात है। कुछ ऐसा ही सौभाग्य हमें प्राप्त है। जी हाँ वैसे तो हम तीन कमरे और एक बड़े से हॉल वाले फ्लैट में रहते हैं ...लेकिन वास्तव में छोटे से क्षेत्र में ही ये चारो कमरे, रसोईघर सिमटा पड़ा है। बेडरूम से सटे एक छोटी सी बालकनी भी है जहाँ जाकर ये अहसास होता है की फ्लैट बनाने वाले ने कितना दिमाग लगाया होगा हर छोटे बड़े कोने का इस्तेमाल करने में। कहाँ हमारे आरा का घर जहाँ बालकनी में हमलोगों ने कितनी बार छुआ छुई खेली, यही नही मैंने तो वहां ढेर सारे गमले लगा रखे थे। गर्मी के दिनों में हम सब भाई बहन बालकनी में आराम से सकते थे इतनी जगह वहां थी। यहाँ... दिल्ली के घर में अगर तीन लोग खड़े हो जाएँ तो ऐसा लगता है की कितनी भीड़ हो गई ... अब चौथे के लिए जगह ही नही है।
खैर... इन सब के बावजूद हम ख़ुद को बेहद सौभाग्यशाली मानते है क्योंकि ये घर काफ़ी खुला हुआ सा है। दिन चढ़ते ही सूरज की रोशनी से हमारी नींद खुलती है। दूसरा कमरा, वो भी बालकनी से ही सटा है, बहुत से जीवों की …

सिर्फ विरोध के लिए विरोध या कुछ और ?

बचपन में चित्तौड़गढ़ की रानी पद्मावती और उसके जौहर की कथा खूब सुनी थी। किसी बाल पुस्तक में भी राजा रतन सिंह की बहादुरी के किस्से और पद्मावती के जौहर की कथा पढ़ी थी। लोककथाओं में आज भी उनके किस्से ज़िंदा हैं। फिर उन किस्सों को फिल्म के माध्यम से दिखाए जाने पर इतना बवाल क्यों ? हमें किस पर आपत्ति होनी चाहिए ? क्या आज हम फंतासी और सत्य के बीच काफर्क भूलते जा रहे हैं या फिर हम सब किसी भ्रम अथवा किसी पूर्वाग्रह में जी रहे हैं।     संजय लीला भंसाली ने पद्मावती में भी अपने पुराने अंदाज़ को बरक़रार रखा है।उन्हें अगर ‘शो मैन’ कहा जाए तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी। उनकी फिल्मों का एक स्टाइल है। उनकी फिल्मों में एक भव्यता दिखाई देती है जो आप सिनेमा हॉल में हीं महसूस कर सकते हैं। संगीत में परिवेश-माहौल का पूरा असर दिखाई पड़ता है। इस फिल्म में भी उन्होंने लोकधुन और लोकगीतों का इस्तेमाल किया है। एक तरफ राजस्थान के लोकगीत तो दूसरी ओर शेरो  शायरी और अरबिक वाद्यंत्रों का प्रयोग। मैंने जायसी के पद्मावत को नहीं पढ़ा है लेकिन इस फिल्म को देखकर उसकी कमी नहीं खली। अलाउद्दीन खिलजी की बर्बरता, पद्मावती का सौंदर्य, रा…

जाना -हिंदी की सबसे खौफनाक क्रिया है

हली बार साहित्य संसार के माध्यम से उन्हें सुनने का मौक़ा मिला था लेकिन तब मेरा काम सिर्फ और सिर्फ कार्यक्रम का प्रोडक्शन था।  इसलिए मेरा पूरा ध्यान कैमरे के कोण पर टिका था। कार्यक्रम खत्म होने के बाद हमारी बेहद छोटी और औपचारिक बातचीत हो सकी। शायद 2008 या 2009 की बात रही होगी।  उसके बाद पूरे आठ या नौ साल बाद उनका साक्षात्कार लेने का मौक़ा मिला। ये मौक़ा भी बहुत मुश्किल से मिला था। इसके लिए मैंने जाने कितनी बार उनसे फ़ोन पर बातें की।  हर बार वे तबियत खराब की बात कहकर टाल जाते थे। कभी वे दिल्ली से बाहर होते, जब दिल्ली में होते तो तबियत खराब है बोल कर बात टाल जाते और मैं हर बार उनका साक्षात्कार करने का मेरा जोश कम पड़ जाता। एक दिन जब अनामिका जी के साक्षात्कार के लिए मैं उनके घर पहुंची थी उस दिन वहीं अचानक मेरी मुलाक़ात केदारनाथ जी से हुई। मैंने उनसे बात की और उन्होंने आज्ञा दे दी।
तय दिन उनके घर पहुंचना था। अपनी ओर से पूरी तरह सतर्क थी कि कहीं गलती से भी मुझे
देर ना हो जाए। साक्षात्कार शुरू हुआ।  धीरे-धीरे मैं भी सहज होती गई। उन्होंने अपनी प्रिय
कविता कपास के फूल सुनाई। कविता सुनाने के साथ…