Skip to main content

मेरी बातें

बहुत दिनों से कुछ नहीं लिख सकी ऐसा नहीं था की लिखने की चाहत नहीं थी , वास्तव में कुछ समय की कमी और थोड़े से आलस ने मुझे ब्लॉग लेखन से दूर कर दिया था। हर दिन सोचती थी की आज ये लिखूंगी आज वो लिखूंगी, लेकिन जब ऑफिस पहुँचती तो काम के सिवा कुछ याद नहीं होता था और घर पहुँचने के बाद थकान से कुछ याद नहीं रहता ।
शनिवार का दिन भी आम दिन की तरह ही था। मैंने अपने प्रोग्राम के कवर स्टोरी के लिए कुछ लोगों से बातें की हुई थी । शूट के लिए करीब एक बजे निकली। रास्ते में ही तय किया की शूट ख़त्म करने के बाद कनात प्लेस में जाकर कुछ जनरल शॉट्स बनायेंगे और अपना पीटीसी भी वहीं सेंट्रल पार्क में करेंगे । स्टोरी शूट में ही देर हो गई और कनात प्लेस पहुँचने में पौने पाँच बज गए । वहां पहुँच कर हमलोगों ने शूटिंग शुरू कर दी । हमें थोड़ा आश्चर्य ये हो रहा था की आमदिनों के मुकाबले उस दिन भीड़ थोडी कम थी। मैंने अपने कैमरामैंन से भी कहा की आज भीड़ कम है। छः बजे मेरे भाइयों का फोन आया, वे मुझे पिक करने सीपी ही आ रहे थे। मैंने उस दिन का शूट कैंसिल कर दिया, और दूसरे दिन के लिए तय कर दिया। मुझे क्या पता था की ये मेरा सौभाग्य है जो मुझे सेंट्रल पार्क जाने से रोक रहा था। उस दिन जैसे ही हम (मैं और मेरे दोनों भाई ) घर पहुंचे विस्फोट की ख़बर मिली। हमने ज्योंहीं टीवी चलाया असलियत देखकर दिल दहल गया। असल में जैसे जैसे हम अपनी गाड़ी से गुज़रे थे चाँद मिनट बाद वहां विस्फोट हुआ था । समझ नहीं आ रहा था की इस आतंकी कार्यवाई पर रोएँ या फ़िर अपने सौभाग्य पर खुश हों। वहां हर तरफ़ चीख पुकार मची थी । एक इच्छा ये भी हुई की काश मैं वहां होती उनलोगों की कोई तो सहायता कर पाती, पर फ़िर ये भी लगा की अच्छा है की मैं वहां नही थी वरना, वो दृश्य सामने देखकर मैं शायद कुछ करने की स्थिति में नहीं होती। अंत में सिर्फ़ इतना की हे इश्वर जो पीड़ित हैं उन्हें ये सहने की शक्ति दो... जो इन घटनाओं में दम तोड़ चुके उनकी आत्मा को शान्ति दो और जो ऐसी घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं.... जिनके हाथ ऐसा करने पर भी सलामत हैं, उन्हें हे इश्वर थोडी सद्बुद्धि दो।

Comments

neeshoo said…
jo hua uska bahut dukh hai . hum kya kar bhi sakte hai sivay bebasi k
Udan Tashtari said…
बहुत दुखद, अफसोसजनक और निन्दनीय घटना. एक घुटन होती है यह सब देखकर. आपकी सोच भी सही है कि खुश हो कि बच गये या दुखी इस हादसे पर!!
PREETI BARTHWAL said…
बहुत ही दर्दनाक घटना हुई थी ये।
आप सही सलामत हैं इसकी खुशी भी है।
Bandmru said…
बहुत दुखद, अफसोसजनक और निन्दनीय घटना. एक घुटन होती है यह सब देखकर.आप सही सलामत हैं इसकी खुशी है।अंत में सिर्फ़ इतना की हे इश्वर जो पीड़ित हैं उन्हें ये सहने की शक्ति दो... जो इन घटनाओं में दम तोड़ चुके उनकी आत्मा को शान्ति दो और जो ऐसी घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं.... जिनके हाथ ऐसा करने पर भी सलामत हैं, उन्हें हे इश्वर थोडी सद्बुद्धि दो।
मीत said…
दोबारा तुम्हे लिखते देख अच्छा लगा..और ख़ुशी है की तुम वहां से चली गयीं थी...
मैं वहां विस्फोट के तुंरत बाद पहुंचा था..
मंजर आँखों में अभी तक तैर रहा है... पार्क में खून से लथपथ लोग अभी भी सपने में रोज आ रहे है..
और तुम दिल छोटा नहीं करना, तुम वहां नहीं थी तो क्या हुआ, तुम्हारा ये सोचना ही काफी है की तुम वहां लोगो की मदद करती..
ना जाने इस से कब निजात मिलेगी...

Popular posts from this blog

हमारे घर भी गिल्लू...

दिल्ली का घर... बिल्कुल छोटा सा... तीन कमरे का फ्लैट । कहते हैं की दिल्ली के फ्लेट्स में अगर सूरज की रोशनी पहुँच जाए तो ये बड़े सौभाग्य की बात है। कुछ ऐसा ही सौभाग्य हमें प्राप्त है। जी हाँ वैसे तो हम तीन कमरे और एक बड़े से हॉल वाले फ्लैट में रहते हैं ...लेकिन वास्तव में छोटे से क्षेत्र में ही ये चारो कमरे, रसोईघर सिमटा पड़ा है। बेडरूम से सटे एक छोटी सी बालकनी भी है जहाँ जाकर ये अहसास होता है की फ्लैट बनाने वाले ने कितना दिमाग लगाया होगा हर छोटे बड़े कोने का इस्तेमाल करने में। कहाँ हमारे आरा का घर जहाँ बालकनी में हमलोगों ने कितनी बार छुआ छुई खेली, यही नही मैंने तो वहां ढेर सारे गमले लगा रखे थे। गर्मी के दिनों में हम सब भाई बहन बालकनी में आराम से सकते थे इतनी जगह वहां थी। यहाँ... दिल्ली के घर में अगर तीन लोग खड़े हो जाएँ तो ऐसा लगता है की कितनी भीड़ हो गई ... अब चौथे के लिए जगह ही नही है।
खैर... इन सब के बावजूद हम ख़ुद को बेहद सौभाग्यशाली मानते है क्योंकि ये घर काफ़ी खुला हुआ सा है। दिन चढ़ते ही सूरज की रोशनी से हमारी नींद खुलती है। दूसरा कमरा, वो भी बालकनी से ही सटा है, बहुत से जीवों की …

सिर्फ विरोध के लिए विरोध या कुछ और ?

बचपन में चित्तौड़गढ़ की रानी पद्मावती और उसके जौहर की कथा खूब सुनी थी। किसी बाल पुस्तक में भी राजा रतन सिंह की बहादुरी के किस्से और पद्मावती के जौहर की कथा पढ़ी थी। लोककथाओं में आज भी उनके किस्से ज़िंदा हैं। फिर उन किस्सों को फिल्म के माध्यम से दिखाए जाने पर इतना बवाल क्यों ? हमें किस पर आपत्ति होनी चाहिए ? क्या आज हम फंतासी और सत्य के बीच काफर्क भूलते जा रहे हैं या फिर हम सब किसी भ्रम अथवा किसी पूर्वाग्रह में जी रहे हैं।     संजय लीला भंसाली ने पद्मावती में भी अपने पुराने अंदाज़ को बरक़रार रखा है।उन्हें अगर ‘शो मैन’ कहा जाए तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी। उनकी फिल्मों का एक स्टाइल है। उनकी फिल्मों में एक भव्यता दिखाई देती है जो आप सिनेमा हॉल में हीं महसूस कर सकते हैं। संगीत में परिवेश-माहौल का पूरा असर दिखाई पड़ता है। इस फिल्म में भी उन्होंने लोकधुन और लोकगीतों का इस्तेमाल किया है। एक तरफ राजस्थान के लोकगीत तो दूसरी ओर शेरो  शायरी और अरबिक वाद्यंत्रों का प्रयोग। मैंने जायसी के पद्मावत को नहीं पढ़ा है लेकिन इस फिल्म को देखकर उसकी कमी नहीं खली। अलाउद्दीन खिलजी की बर्बरता, पद्मावती का सौंदर्य, रा…

जाना -हिंदी की सबसे खौफनाक क्रिया है

हली बार साहित्य संसार के माध्यम से उन्हें सुनने का मौक़ा मिला था लेकिन तब मेरा काम सिर्फ और सिर्फ कार्यक्रम का प्रोडक्शन था।  इसलिए मेरा पूरा ध्यान कैमरे के कोण पर टिका था। कार्यक्रम खत्म होने के बाद हमारी बेहद छोटी और औपचारिक बातचीत हो सकी। शायद 2008 या 2009 की बात रही होगी।  उसके बाद पूरे आठ या नौ साल बाद उनका साक्षात्कार लेने का मौक़ा मिला। ये मौक़ा भी बहुत मुश्किल से मिला था। इसके लिए मैंने जाने कितनी बार उनसे फ़ोन पर बातें की।  हर बार वे तबियत खराब की बात कहकर टाल जाते थे। कभी वे दिल्ली से बाहर होते, जब दिल्ली में होते तो तबियत खराब है बोल कर बात टाल जाते और मैं हर बार उनका साक्षात्कार करने का मेरा जोश कम पड़ जाता। एक दिन जब अनामिका जी के साक्षात्कार के लिए मैं उनके घर पहुंची थी उस दिन वहीं अचानक मेरी मुलाक़ात केदारनाथ जी से हुई। मैंने उनसे बात की और उन्होंने आज्ञा दे दी।
तय दिन उनके घर पहुंचना था। अपनी ओर से पूरी तरह सतर्क थी कि कहीं गलती से भी मुझे
देर ना हो जाए। साक्षात्कार शुरू हुआ।  धीरे-धीरे मैं भी सहज होती गई। उन्होंने अपनी प्रिय
कविता कपास के फूल सुनाई। कविता सुनाने के साथ…