Skip to main content

कामयाबी की कहानी

अब तक किस्से कहानियो में ही सुना करती थी की कैसे एक गाँव की अनपढ़ महिला संघर्ष कर लोगों के लिए एक मिसाल बन गई। लेकिन पहली बार अपनी आँखों से देख सकी उस महिला को जिसने आज से करीब अस्सी साल पहले भोजपुर जैसे इलाके में व्यापार में योगदान देकर एक नई शुरुआत की। मैं बात कर रही हूँ भोजपुर के पकडी गाँव की रहने वाली फूलवंती की। ये सच है की फूलवंती को जानने वाले बहुत कम लोग ही मिलेंगे क्योंकि वो दशरथ मांझी की तरह भाग्यशाली नहीं है जिनपर मीडिया की नज़र पड़ सके, लेकिन उसके संघर्ष की कहानी उस गाँव में जाइए तब आपको समझ में आएगी। आज से अस्सी साल पहले का बिहार, अभी की स्थिति देखकर अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं है की कैसा रहा होगा। तब लड़कियों की शादियाँ बचपन में ही कर दी जाती थी। उसके बाद उनका काम गज भर के घूँघट के साथ घर को संभालना हुआ करता था। तब लड़कियों को पढाना सही नहीं समझा जाता था। सातवी पास को ज्यादा पढ़ी लिखी समझा जाता था। तब शादी के बाद औरतें घर की चोव्खत को नहीं लांघा करती थी। कहानी तब की है ... फूलवंती के पति का काम खेती करना था। पैसे की तंगी ने उन्हें क़र्ज़ लेने पर मजबूर कर दिया। फिर शुरू हुआ सिलसिला आर्थिक शोषण का... कभी ना ख़त्म होने वाला क़र्ज़। पति की लाचारी देखकर फूलवंती से नहीं रहा गया और वो निकल पड़ी ऐसे काम की तलाश में जो उसके अपनों को दो जून की रोटी दिला सके। इसी क्रम में वो राजस्थान तक पहुँच गई। रंग बिरंगा राजस्थान जो ना सिर्फ़ पुराने किलों पर लिखी गई इबारतों के लिए प्रसिद्द है बल्कि प्रसिद्द है अपने तीखे मसालेदार व्यंजन के लिए भी। फूलवंती वहां से मसालों को बिहार में लाकर घर घर जाकर बेचना शुरू कर दी। इससे उसे इतना फायदा मिला की उसकी और उसके परिवार की जिंदगी आराम से काटने लगी। धीरे धीरे ये व्यवसाय उनका खानदानी पेशा बन गया। महादलित परिवार से आने वाली इस निरक्षर महिला ने वो कर दिखाया जो तब की साक्षर महिला करने में सक्षम नहीं थी। करीब अस्सी साल बाद आज फूलवंती अपने सौ वसंत पूरे कर चुकी है, इसलिए उसका शरीर इस कार्य में उसका साथ भले नहीं दे रहा लेकिन उस महादलित जाती से आने वाले करीब चालीस से पचास परिवारों ने मसाले के व्यापार को अपना खानदानी पेशा बना लिया है। आज पकडी गाँव के लोग उसकी तारीफ़ करते नही थकते। वे सबके सब फूलवंती के इमानदारी, विश्वास और मेहनत के कायल हैं। दिनकर ने शायद ऐसे ही लोगों को देखकर ये पंक्तियां लिखी होगी
"वह प्रदीप जो दिख रहा है, झिलमिल दूर नहीं है,
थककर बैठ गए क्या भाई, मंजिल दूर नहीं है। "

Comments

jasvir saurana said…
bilkul sahi bat hai.agar aadami chahe to kuch bhi kar sakta hai bas kaam karne ki lagan honi chahiye.bhut aabhar foolvati ko padhane ke liye.
sanjay patel said…
सौ बरस की उस शक्ति प्रतिमा को सलाम जिसका जीवट बेमिसाल है.

साधुवाद आपको भी ...कम लिखा जा रहा है
गुदड़ी के लालों के बारे में.

ब्लॉग ऐसी ही अभिव्यक्तियों के लिये बना है...आपने इसका सार्थक उपयोग किया.
मीत said…
acha paricahy karaya hai priya..
pr kafi dino bad likhne ayee.. plz likhna mat chodna
yawnika said…
salam hain us fulwanti ko, aur aapko bhi aapne kam se kam srijankarta ko gumnami ke andhere se nikal kar samne to layin. likhna band mat karriye. bihar ka itihas waise bhi gauravshali raha hain us gauravshali itihas men ek kadi ye bhi juda. bahut aachchha keep it up
lumarshahabadi said…
जिंदगी की sachaiyon को यूँ ही परोसते रहें। ........और भी तलेंट कही अंधेरों मं खोए होंगे.प्यारी जी आपको आसी सुचानायं और भी मिले ,हमें padhane को मिलते रहेंगे.आप आरा के पत्रकार शाश्वत को जानती होंगी ? उनके पास भी बहुत आईसी ही सूचनाएं है..लेकिन आपने जो भी दिया उअसके लिए धन्यवाद.....

Popular posts from this blog

हमारे घर भी गिल्लू...

दिल्ली का घर... बिल्कुल छोटा सा... तीन कमरे का फ्लैट । कहते हैं की दिल्ली के फ्लेट्स में अगर सूरज की रोशनी पहुँच जाए तो ये बड़े सौभाग्य की बात है। कुछ ऐसा ही सौभाग्य हमें प्राप्त है। जी हाँ वैसे तो हम तीन कमरे और एक बड़े से हॉल वाले फ्लैट में रहते हैं ...लेकिन वास्तव में छोटे से क्षेत्र में ही ये चारो कमरे, रसोईघर सिमटा पड़ा है। बेडरूम से सटे एक छोटी सी बालकनी भी है जहाँ जाकर ये अहसास होता है की फ्लैट बनाने वाले ने कितना दिमाग लगाया होगा हर छोटे बड़े कोने का इस्तेमाल करने में। कहाँ हमारे आरा का घर जहाँ बालकनी में हमलोगों ने कितनी बार छुआ छुई खेली, यही नही मैंने तो वहां ढेर सारे गमले लगा रखे थे। गर्मी के दिनों में हम सब भाई बहन बालकनी में आराम से सकते थे इतनी जगह वहां थी। यहाँ... दिल्ली के घर में अगर तीन लोग खड़े हो जाएँ तो ऐसा लगता है की कितनी भीड़ हो गई ... अब चौथे के लिए जगह ही नही है।
खैर... इन सब के बावजूद हम ख़ुद को बेहद सौभाग्यशाली मानते है क्योंकि ये घर काफ़ी खुला हुआ सा है। दिन चढ़ते ही सूरज की रोशनी से हमारी नींद खुलती है। दूसरा कमरा, वो भी बालकनी से ही सटा है, बहुत से जीवों की …

सिर्फ विरोध के लिए विरोध या कुछ और ?

बचपन में चित्तौड़गढ़ की रानी पद्मावती और उसके जौहर की कथा खूब सुनी थी। किसी बाल पुस्तक में भी राजा रतन सिंह की बहादुरी के किस्से और पद्मावती के जौहर की कथा पढ़ी थी। लोककथाओं में आज भी उनके किस्से ज़िंदा हैं। फिर उन किस्सों को फिल्म के माध्यम से दिखाए जाने पर इतना बवाल क्यों ? हमें किस पर आपत्ति होनी चाहिए ? क्या आज हम फंतासी और सत्य के बीच काफर्क भूलते जा रहे हैं या फिर हम सब किसी भ्रम अथवा किसी पूर्वाग्रह में जी रहे हैं।     संजय लीला भंसाली ने पद्मावती में भी अपने पुराने अंदाज़ को बरक़रार रखा है।उन्हें अगर ‘शो मैन’ कहा जाए तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी। उनकी फिल्मों का एक स्टाइल है। उनकी फिल्मों में एक भव्यता दिखाई देती है जो आप सिनेमा हॉल में हीं महसूस कर सकते हैं। संगीत में परिवेश-माहौल का पूरा असर दिखाई पड़ता है। इस फिल्म में भी उन्होंने लोकधुन और लोकगीतों का इस्तेमाल किया है। एक तरफ राजस्थान के लोकगीत तो दूसरी ओर शेरो  शायरी और अरबिक वाद्यंत्रों का प्रयोग। मैंने जायसी के पद्मावत को नहीं पढ़ा है लेकिन इस फिल्म को देखकर उसकी कमी नहीं खली। अलाउद्दीन खिलजी की बर्बरता, पद्मावती का सौंदर्य, रा…

जाना -हिंदी की सबसे खौफनाक क्रिया है

हली बार साहित्य संसार के माध्यम से उन्हें सुनने का मौक़ा मिला था लेकिन तब मेरा काम सिर्फ और सिर्फ कार्यक्रम का प्रोडक्शन था।  इसलिए मेरा पूरा ध्यान कैमरे के कोण पर टिका था। कार्यक्रम खत्म होने के बाद हमारी बेहद छोटी और औपचारिक बातचीत हो सकी। शायद 2008 या 2009 की बात रही होगी।  उसके बाद पूरे आठ या नौ साल बाद उनका साक्षात्कार लेने का मौक़ा मिला। ये मौक़ा भी बहुत मुश्किल से मिला था। इसके लिए मैंने जाने कितनी बार उनसे फ़ोन पर बातें की।  हर बार वे तबियत खराब की बात कहकर टाल जाते थे। कभी वे दिल्ली से बाहर होते, जब दिल्ली में होते तो तबियत खराब है बोल कर बात टाल जाते और मैं हर बार उनका साक्षात्कार करने का मेरा जोश कम पड़ जाता। एक दिन जब अनामिका जी के साक्षात्कार के लिए मैं उनके घर पहुंची थी उस दिन वहीं अचानक मेरी मुलाक़ात केदारनाथ जी से हुई। मैंने उनसे बात की और उन्होंने आज्ञा दे दी।
तय दिन उनके घर पहुंचना था। अपनी ओर से पूरी तरह सतर्क थी कि कहीं गलती से भी मुझे
देर ना हो जाए। साक्षात्कार शुरू हुआ।  धीरे-धीरे मैं भी सहज होती गई। उन्होंने अपनी प्रिय
कविता कपास के फूल सुनाई। कविता सुनाने के साथ…