Friday, October 5, 2007

अरमां

ऊंचे पर्वतो से बादलों को

टकराते देखा

सागर की लहरों को

बार बार तट पर आते देखा

दिल मे एक अरमान जागा

काश। मैं बादल होती और तुम

पर्वत

या फिर मैं लहरें होती और तुम

किनारा।

No comments:

अनंत चतुर्दशी-संस्मरण

का मथS तार... क्षीर समुद्र...का खोजS तार...अनंत भगवान... मिललें... ना। यूँ तो हमारे घर में पूजा पाठ ज़्यादा नहीं हुआ करता था। 'बाबा-अ...