संदेश

सर्द हवाएं बहती है
कानों में कुछ कुछ कहती है

ना हार कहीं तुम रूक जाओ
ऐसा वो संदेशा देती हैं ।

चट्टान को देखा है तुमने
कितने ही वारों को सहता

पर फिर भी अपने जड़ पर
पल पल प्रतिपल है डटा रहता ।

Comments

Popular posts from this blog

मनुष्य एक सामाजिक नहीं सामूहिक प्राणी है!

महिला दिवस और एक सशक्त महिला

‘आई ऍम फैन युसु’